किसी का भी झूठ को कैसे पकड़े ? झट से

0
704
किसी का भी झूठ को कैसे पकड़े ? झट से
किसी का भी झूठ को कैसे पकड़े ? झट से

 

किसी का भी झूठ को कैसे पकड़े ? झट से

 

किसी का भी झूठ को कैसे पकड़े ? झट से:-

  • आज की ब्लॉग में बात करेंगे की केसे आप किसी भी दोस्त रिश्तेदार या फिर व्यक्ति का झूठ पकड़ा सकते हो आप बस कुछ मिनटों में वो आप बात करते करते चली ये सुरु करते है

-: सबसे पहले यह जानते हैं कि झूठ बोलने की जरूरत कब पड़ती है पहला जब कोई बच्चा अपनी मां से झूठ बोल रहा हूं, स्कूल में स्टूडेंट अपने टीचर से, employee अपने बॉस से, तो लोग अलग अलग तरीके से झूठ बोलते रहते हैं जैसे कि कोई अपना दोस्त हो वह भी हमसे कभी कभी झूठ बोलता है अपनी बीवी हो तो भी कई बार जो झूठ बोलती रहती है और भाई भी हो सकता है तो कैसे हम किसी के भी झूठ को पकड़ सकते हैं वह आज हम जानेंगे इस ब्लॉग में.किसी का भी झूठ को कैसे पकड़े ? झट से

 

:-वैसे तो झूठ बोलने के बहुत सारे तरीके लेकिन आज मैं आपको एक सिंपल तरीका बताऊंगा किसी का भी झूठ को कैसे पकड़े ? झट से

 

 

 

  • 1) वैसे हमारे दिमाग के 2 पार्ट्स होते हैं एक लेफ्ट साइड और एक राइट साइड लेफ्ट साइड वाले ब्रेन का उपयोग हम मेमोरी स्टोर करने के लिए करते हैं कुछ याद रखना हो तो उसके लिए लेफ्ट साइड ब्रेन का यूज करते हैं और राइट साइड ब्रेन का यूज हम कुछ क्रिएट करने के लिए करते कुछ हमें क्रिएटिविटी करनी है कुछ बनाना है तो उसके लिए राइट साइड ब्रेन का यूज करते हैं मान लो कि कोई इंटरव्यू देने आ रहा है आपको इंटरव्यूज का लेना है तोह अभी हम उस टाइम पर जानेंगे कि वह इंटरव्यू यार सही बोल रहा है या गलत बोल रहा है तो बात करते करते हमें उससे पुरानी बातें या या फैमिली के बारे में उसके एक्सपीरियंस के बारे में पुरानी जगह पर काम किया उसके बारे में ऐसे बात करते करते हम यह जानने की कोशिश करेंगे कि उसकी आंखें लेफ्ट साइड जा रही है अगर अगर लेफ्ट लेफ्ट साइड आँखें जा रही है तो वह सही बोल रहा है मतलब की उधर वह सब बातें उसकी लेफ्ट साइड ब्रेन में स्टोर है और वह हमें बता रहा है 

  •  

     

 

  • :-और अगर उसकी आंखें बातचीत करते करते राइट हैंड साइड ब्रेन वाले साइड में जा रही हो तो उसमें हमें यह जान ले ले लेना होगा कि वह कुछ क्रिएटिविटी कर रहा है कुछ क्रिएट कर आए कुछ दाल पका रहा है तो ऐसे जान सकते हैं कि उस टाइम वह जो भी बातें कर रहा है वह मेमोरी में नहीं है वह तबीयत अभी क्रिएट कर रहा है तो उसको भी पकड़ने के लिए आपको जो वह बातें कर रहा हूं उसके रिलेटेड क्वेश्चन आपको पूछना चाहिए और उससे पूछते जो पहले अपने क्वेश्चन पूछा था वह क्वेश्चन को 20:15 मिनट बाद बातचीत किए बाद उसको रिपीट करना है और उससे भी आप जान सकते हो कि वह जो जवाब दे रहा है वह एक जैसा है यह बदलता रहता है तो उससे आप जान सकते हो 

 

:- और यह टेक्निक जैन यूनिटेक ने के जो कि एक रोज इन द जीवन में हर कोई झूठ बोलते वक्त कुछ ऐसे ही क्रिएटिविटी करता है उसकी आंखें लेफ्ट या राइट हैंड साइड जाती रहती है तो आपको इसमें सामने वाले को बताना नहीं होता यह टेक्निक वरना वह कॉन्शियस हो जाएगा तो यह टेक्निक आपके कोई काम नहीं आएगी,

 

:- तो कैसी लगी आपको हमारी यह ब्लॉग और यह पोस्ट अगर अच्छी लगी हो तो प्लीज लाइक कर देना और सब्सक्राइब भी कर देना और हो सके तो उसे शेयर भी कर देना जिनको भी ऐसी पोस्ट पढ़ने अच्छी लगती है वह हमारी ब्लॉक चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं और इससे आपको daily नोटिफिकेशन भी मिलती रहेगी

:-तो आशा करता हूं कि आज का यह ब्लॉग आप सबको पसंद आया होगा अगर पसंद आया हो तो इसे ऊपर अपने व्हाट्सएप और फेसबुक में अपने दोस्तों को शेयर करें जिससे यह जानकारी आपके दोस्तों को भी मिल सके और उनको भी फायदा पहुंचा सके

:-तू ही एक एक जेन्युइन और यूज़फुल टेक्निक है तो मैं आशा करता हूं इसका कोई मिस यूज नहीं करेंगे समझ गए आप I hope और की यह ब्लॉग आपको पसंद आई होगी अगर पसंद आई हो तो अपने दोस्तों में शेयर करें मिलते हैं कोई अच्छे से टॉपिक पर सीयू बाय 

Thanks you friend

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here